Breaking News
रोहित शेट्टी के शो में नीति टेलर की होगी एंट्री, खतरों के खिलाड़ी 14 में मचेगा तहलका
रोहित शेट्टी के शो में नीति टेलर की होगी एंट्री, खतरों के खिलाड़ी 14 में मचेगा तहलका
दार्जिलिंग की उपेक्षा कर रही है ममता- महाराज
दार्जिलिंग की उपेक्षा कर रही है ममता- महाराज
कांग्रेस के दिग्गज नेता हरक सिंह रावत की पुत्रवधु अनुकृति ने थामा बीजेपी का दामन 
कांग्रेस के दिग्गज नेता हरक सिंह रावत की पुत्रवधु अनुकृति ने थामा बीजेपी का दामन 
एक्शन मोड में धनदा, चारधाम यात्रा को लेकर कसे स्वास्थ्य अधिकारियों के पेच
एक्शन मोड में धनदा, चारधाम यात्रा को लेकर कसे स्वास्थ्य अधिकारियों के पेच
इलेक्शन में व्यस्तता के बीच भी एक्शन मोड में हैं मुख्यमंत्री धामी
इलेक्शन में व्यस्तता के बीच भी एक्शन मोड में हैं मुख्यमंत्री धामी
लगातार धधक रहे उत्तराखंड के जंगल, वन संपदा को पहुंच रहा भारी नुकसान 
लगातार धधक रहे उत्तराखंड के जंगल, वन संपदा को पहुंच रहा भारी नुकसान 
गर्मियों में आरामदायक और ट्रेंडी दिखने के लिए वॉर्डरोब में शामिल करें ये फुटवियर्स
गर्मियों में आरामदायक और ट्रेंडी दिखने के लिए वॉर्डरोब में शामिल करें ये फुटवियर्स
ऋषिकेश के चीला बैराज में डूबे युवक का शव बरामद
ऋषिकेश के चीला बैराज में डूबे युवक का शव बरामद
पीएम मोदी देश में ‘भ्रष्टाचार की पाठशाला’ चला रहे हैं’- राहुल गांधी
पीएम मोदी देश में ‘भ्रष्टाचार की पाठशाला’ चला रहे हैं’- राहुल गांधी

गणतंत्र दिवस- दिल्ली के राजपथ पर छाएगी उत्तराखंड की झांकी

[ad_1]

दिल्ली। गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर होने वाली परेड में इस बार भी देवभूमि उत्तराखंड की झांकी नजर आएगी। जिसमें सिखों के प्रमुख तीर्थ हेमकुंड साहिब, टिहरी डैम, डोबरा चांठी पुल और भगवान बद्रीविशाल के मंदिर की भव्यता एवं दिव्यता को दर्शाया जाएगा।

उत्तराखंड सांस्कृतिक,धर्म और आस्था के लिए पुरे विश्व में जाना जाता है ।यहाँ की सांस्कृतिक धरोहर के सभी कायल है। इससे पूर्व वर्ष में उत्तराखंड के चारो धामों में से केदार बाबा की डोली राजपथ पर नजर आई थी।जो न सिर्फ देवभूमि वासियों के लिए गर्व का पल था अपितु समस्त देशवासी भी केदारबाबा की झांकी को देख गर्व महसूस कर रहे थे।इस बार भी राजपथ पर उत्तराखंड की झांकी का चयन हुआ है जिसमे बद्रीनाथ धाम की झांकी भी सम्मलित है। 

नोडल अधिकारी एवं संयुक्त निदेशक सूचना केएस चौहान के मुताबिक देवभूमि उत्तराखंड की झांकी में गुरुद्वारा हेमकुंड साहिब को सबसे आगे। इसके बाद टिहरी बांध फिर डोबरा चांठी पुल और इसके बाद करोड़ों लोगों की आस्था के केंद्र भगवान बद्रीविशाल के मंदिर को दर्शाया जाएगा।कुमाऊं सांस्कृतिक लोककला दर्पण लोहाघाट चंपावत के 16 लोगों का सांस्कृति दल झांकी के साथ चलता नजर आएगा। चौहान के मुताबिक राज्य गठन के बाद से अब तक 13 बार उत्तराखंड की झांकी का चयन हो चुका है। 

राजपथ पर कब-कब नजर आई उत्तराखंड की झांकी 
नोडल अधिकारी केएस चौहान के मुताबिक राज्य गठन के बाद से अब तक 12 बार वर्ष 2003 में फूलदेई, 2005 में नंदा राजजात यात्रा, 2006 में फूलों की घाटी, 2007 में कार्बेट नेशनल पार्क, 2009 में साहसिक पर्यटन, 2010 में कुंभ मेला, 2014 में जड़ी बूटी, 2015 में केदारनाथ धाम पुनर्निमाण, 2018 में ग्रामीण पर्यटन, 2019 में अनासक्ति आश्रम कौसानी, 2021 में केदारनाथ धाम की झांकी नजर आई।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top