Breaking News
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
चौंदकोट के लाल साकेत ने किया कमाल
चौंदकोट के लाल साकेत ने किया कमाल
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

स्कूल खुलने को लेकर आदेश जारी ,उत्तराखंड में 31 जनवरी से खुलेगे 10वीं से 12वीं तक के स्कूल

[ad_1]

उत्तराखंड। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह से देश भर में स्कूल खोलने के तौर-तरीकों पर सुझाव देने और काम करने को कहा है। सूत्रों ने कहा, ‘कोविड-19 ने सभी उम्र के बच्चों को प्रभावित किया है। हालांकि, बच्चों में मृत्यु दर और बीमारी की गंभीरता काफी कम है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि बच्चों के स्कूलों में लौटने का समय आ गया है।’ सूत्रों ने ये भी बताया है कि केंद्र सरकार कोविड प्रोटोकाल के सख्त पालन के तहत स्कूलों को फिर से खोलना चाहती है। हालांकि, यह राज्यों को तय करना होगा कि वे स्कूल खोलने के लिए तैयार हैं या नहीं। 

बता दें की उत्तराखंड सरकार ने एक बार फिर अजीबोगरीब फैसला लेते हुए दसवीं से बारहवीं तक की कक्षाओं को शुरू करने का फरमान सुना दिया है। अभिभावक इस फैसले से हैरान है क्योंकि जहां स्कूलों में सैनिटेशन तक की व्यवस्था नहीं है वही सामुदायिक दूरी को बनाए रखने का भी कोई उचित प्रबंध अब तक नजर नहीं आया है।प्रदेश में कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं और पिछले 30 दिनों से मौतों का आंकड़ा भी बढ़ने लगा है। जहां एक तरफ कोरोना के नए वेरिएंट OMICROM को लेकर सतर्कता बरतने के निर्देश जारी किए गए हैं । ऐसे में राज्य सरकार का ऐसा फैसला बच्चो की सुरक्षा का सवाल भी उठाता है। 

बता दें की राज्य सरकार की ओर से स्कूल की व्यवस्था को लेकर SOP जारी की गई है जिसमें कक्षा 1 से 9 तक ऑनलाइन कक्षाएं चलाने के निर्देश दिए गएहै  जबकि दसवीं से बारहवीं की कक्षाओं को स्कूलों में चलाने का फैसला लिया गया है। वर्तमान शिक्षा सत्र 2 महीने बाद समाप्त होने जा रहा है और गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी आधे अधूरे पाठ्यक्रम के भरोसे ही बोर्ड की परीक्षाएं पूरी की जानी है। 2 महीनों में कैसे बचा हुआ पाठ्यक्रम पूरा हो पाएगा इसे लेकर भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

पूर्व में भी स्कूल खोलने के निर्देश दिए गए थे तो छात्रों की संख्या बेहद कम दर्ज की गई थी। अभी कोरोनावायरस का प्रकोप जारी है और इन परिस्थितियों में राज्य सरकार को स्कूल खोलने के फैसले पर अभिभावकों एवं वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए ही निर्णय लेना चाहिए था।बहरहाल अभी सबसे बड़ी चुनौती शिक्षा विभाग के आगे बोर्ड परीक्षाओं की है और पाठ्यक्रम अभी आधा अधूरा ही पढ़ाया गया है। इन परिस्थितियों में कैसे बोर्ड की परीक्षाएं आयोजित होंगी और कैसे छात्र अधूरे पाठ्यक्रम के बीच अपनी परीक्षाएं देंगे? बरहाल सरकार स्कूलों को फिर से खोलने को लेकर एडवाइजरी जारी कर सकती है।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top