Breaking News
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
चौंदकोट के लाल साकेत ने किया कमाल
चौंदकोट के लाल साकेत ने किया कमाल
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

कोल इंडिया लिमिटेड के पास गैर-विद्युत क्षेत्र के लिए है पर्याप्त स्टॉक

[ad_1]

नई दिल्ली। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) वर्तमान में गैर-विद्युत क्षेत्र (एनपीएस) को प्रति दिन लगभग 3.4 लाख टन कोयले की आपूर्ति कर रहा है, जो इस काल खंड में कंपनी की औसत आपूर्ति है। 37 मिलियन टन (एमटी) से अधिक कोयले खदान निकास के आधार पर सीआईएल का इस क्षेत्र में आपूर्ति को और बढ़ाने का लक्ष्य है। अप्रैल-जनवरी वित्त वर्ष 22 के दौरान एनपीएस को सीआईएल का प्रेषण 101.7 मिलियन टन (एमटी) रहा, जो महामारी मुक्त वित्त वर्ष 20 की इसी अवधि में 94 एमटी की तुलना में 8.2 प्रतिशत अधिक था। यहां तक कि वित्त वर्ष 2019 की तुलनीय अवधि के लिए जब सीआईएल ने अपनी स्थापना के बाद से अब तक का सबसे अधिक कुल कोयला प्रेषण दर्ज किया, एनपीएस क्षेत्र को आपूर्ति में 91.5 मीट्रिक टन की तुलना में 11 प्रतिशत की वृद्धि हुई। इस अवधि के दौरान बिजली क्षेत्र को आपूर्ति की तुलना में एनपीएस ग्राहकों को आपूर्ति में वृद्धि दर अधिक थी। अप्रैल 20-जनवरी 21 में एनपीएस हिस्से में 105 मीट्रिक टन प्रेषण वित्त वर्ष 22 की समान अवधि की तुलना में 3 मीट्रिक टन से थोड़ा अधिक था। कोविड से प्रभावित वर्ष के दौरान प्रेषण में वृद्धि के कई कारण थे।

कोविड की वजह से वित्त वर्ष 2021 के अधिकांश भाग के लिए कोयले की खपत की मांग में व्यवधान देखा गया, सीआईएल ने एनपीएस हिस्से में आपूर्ति को बढ़ाया। इसके अलावा एनपीएस ग्राहकों ने भी कोयले की अधिक मात्रा को उठाने का विकल्प चुना क्योंकि सीआईएल की ई-नीलामी बिक्री वित्त वर्ष 2021 की पहली छमाही के लिए अधिसूचित मूल्य पर सीमित थी। एनपीएस किसी भी वित्तीय वर्ष में घरेलू कोयले के साथ सम्मिश्रण के लिए लगभग 170 मीट्रिक टन कोयले का आयात करता है। लेकिन वित्त वर्ष 22 में असामान्य रूप से उच्च अंतर्राष्ट्रीय कोयले की कीमतें अपेक्षित मात्रा में आयात करने के लिए बाधा के रूप में साबित हुईं, जिससे उसके अंत में कोयले की कमी बढ़ गई। सीआईएल के पास गैर-विद्युत क्षेत्र को आपूर्ति बढ़ाने के लिए पर्याप्त बफर स्टॉक है।

वित्त वर्ष 22 में बिजली उत्पादन में अभूतपूर्व वृद्धि देखी गई है, विकास दर एक दशक में सबसे अधिक है, जिससे राष्ट्रीय प्राथमिकता पर बिजली क्षेत्र की कोयले की मांग को पूरा करने की आवश्यकता है। मजबूत आर्थिक सुधार पर सवार होकर चालू वित्त वर्ष के जनवरी 22 तक कुल कोयला आधारित बिजली उत्पादन में साल-दर-साल की तुलना में 11.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई। वहीं, इस अवधि के दौरान घरेलू कोयला आधारित उत्पादन 17 प्रतिशत बढ़ा था। बिजली क्षेत्र को कोयले की आपूर्ति का बड़ा हिस्सा सीआईएल द्वारा प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया गया।

अप्रैल-जनवरी 2021-22 के दौरान 14 आयातित कोयला आधारित बिजली संयंत्रों से बिजली उत्पादन में 48 प्रतिशत की कमी आई। परिणामस्वरूप उत्पादन अंतर को पूरा करने के लिए घरेलू कोयला आधारित जनरेटरों को स्वदेशी कोयले की आपूर्ति में वृद्धि की आवश्यकता थी। सीआईएल ने इस अतिरिक्त मांग के लगभग 20 एमटी की आपूर्ति की। दूसरे शब्दों में कहें तो आयात को उस सीमा तक कम कर दिया गया था। बिजली क्षेत्र को कोयले की प्राथमिकता देने और अन्य चुनौतियों का सामना करने के बावजूद सीआईएल ने वित्त वर्ष 22 के जनवरी तक 101.7 एमटी से एनपीएस ग्राहकों को पिछले वर्ष की समान अवधि का 97 प्रतिशत आपूर्ति की।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top