Breaking News
भाजपा ने मोदी को फिर पीएम बनाने और विकसित भारत के अलाप को दी गति
भाजपा ने मोदी को फिर पीएम बनाने और विकसित भारत के अलाप को दी गति
आईपीएल 2024- लखनऊ सुपर जाएंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच मुकाबला आज 
आईपीएल 2024- लखनऊ सुपर जाएंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच मुकाबला आज 
यह है नरेंद्र मोदी का नया भारत, जहां महिलाओं को मिलता है उनका हक और सम्मान- कंगना रनौत 
यह है नरेंद्र मोदी का नया भारत, जहां महिलाओं को मिलता है उनका हक और सम्मान- कंगना रनौत 
जूनियर एनटीआर की ‘देवरा’ की रिलीज तारीख टली, अब 10 अक्टबूर को सिनेमाघरों में दस्तक देगी फिल्म
जूनियर एनटीआर की ‘देवरा’ की रिलीज तारीख टली, अब 10 अक्टबूर को सिनेमाघरों में दस्तक देगी फिल्म
उत्तराखंड आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे राहुल गांधी- बीजेपी 
उत्तराखंड आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे राहुल गांधी- बीजेपी 
आखिर क्यों क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने अपने बचपन के दोस्त के खिलाफ दर्ज करवायी रिपोर्ट
आखिर क्यों क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने अपने बचपन के दोस्त के खिलाफ दर्ज करवायी रिपोर्ट
कोलकाता में बोली ममता बनर्जी – बंगाल में एनआरसी और सीएए नहीं होने दूंगी लागू 
कोलकाता में बोली ममता बनर्जी – बंगाल में एनआरसी और सीएए नहीं होने दूंगी लागू 
मौसमी बुखार से सुरक्षित रहने के लिए अपनाएं ये असरदार टिप्स
मौसमी बुखार से सुरक्षित रहने के लिए अपनाएं ये असरदार टिप्स
पीएम मोदी के अब यह दो दिग्गज उत्तराखंड में गरमाएंगे प्रचार का माहौल 
पीएम मोदी के अब यह दो दिग्गज उत्तराखंड में गरमाएंगे प्रचार का माहौल 

1 जनवरी से बदल रहे बैंक लॉकर के नियम, इस मामले में 100 गुना तक मिलेगा मुआवजा

[ad_1]

नई दिल्ली। नए साल की शुरुआत होने वाली है। इस नए साल में आम लोगों की जरूरत से जुड़े कई नियम बदल जाएंगे। ऐसे ही कुछ नियम बैंक लॉकर के हैं। आइए जानते हैं कि साल 2022 में बैंक लॉकर से जुड़े कौन से नियम बदलने वाले हैं। रिजर्व बैंक की गाइडलाइन के मुताबिक जिस परिसर में सुरक्षित जमा लॉकर हैं, उसकी सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी बैंक की होगी। इसमें कहा गया है कि लॉकर में आग, चोरी, डकैती या सेंधमारी की स्थिति में बैंक अपने दायित्व से नहीं हट सकता। इन मामलों में बैंक का दायित्व लॉकर के वार्षिक किराये का सौ गुना तक हो जाएगा। मतलब ये हुआ कि बैंक ग्राहक को लॉकर के सालाना किराये का 100 गुना तक देगा। हालांकि, प्राकृतिक आपदा या ‘एक्ट ऑफ गॉड’ यानी भूकंप, बाढ़, आकाशीय बिजली या आंधी-तूफान की स्थिति में बैंक किसी नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा। आरबीआई की गाइडलाइन बताती है कि बैंकों को अपने परिसर को इस तरह की आपदाओं से बचाने के लिए उचित इंतजाम करने की जरूरत होगी।

ये भी करना होगा- बैंकों को शाखावार खाली लॉकरों की सूची बनानी होगी। बैंकों को लॉकरों के आवंटन में पारदर्शिता सुनिश्चित करनी होगी।
-बैंकों को लॉकर आवंटन के सभी आवेदनों के लिए पावती या रिसीट देनी होगी।
-लॉकर उपलब्ध नहीं है, तो ग्राहकों को वेट लिस्ट का नंबर देना होगा।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top