Breaking News
गर्मियां शुरू होते ही जंगल की आग होने लगी बेकाबू, भारी मात्रा में वन संपदा को नुकसान 
गर्मियां शुरू होते ही जंगल की आग होने लगी बेकाबू, भारी मात्रा में वन संपदा को नुकसान 
बीजेपी ने स्टार प्रचारक की लिस्ट से हटाया सीएम शिंदे और डिप्टी सीएम अजित पवार का नाम
बीजेपी ने स्टार प्रचारक की लिस्ट से हटाया सीएम शिंदे और डिप्टी सीएम अजित पवार का नाम
आईपीएल 2024- राजस्थान रॉयल्स और पंजाब किंग्स के बीच मुकाबला आज 
आईपीएल 2024- राजस्थान रॉयल्स और पंजाब किंग्स के बीच मुकाबला आज 
कड़े कानून लागू करने से लेकर हर वर्ग का कल्याण किया- मुख्यमंत्री
कड़े कानून लागू करने से लेकर हर वर्ग का कल्याण किया- मुख्यमंत्री
विक्की कौशल, तृप्ति डिमरी और ऐमी विर्क बड़े पर्दे पर मचाएंगे धमाल, फिल्म ‘बैड न्यूज’ की रिलीज तारीख का हुआ ऐलान
विक्की कौशल, तृप्ति डिमरी और ऐमी विर्क बड़े पर्दे पर मचाएंगे धमाल, फिल्म ‘बैड न्यूज’ की रिलीज तारीख का हुआ ऐलान
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने न्याय संकल्प सभा को किया संबोधित, कहा उत्तराखंड से उनका खास रिश्ता है…..
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने न्याय संकल्प सभा को किया संबोधित, कहा उत्तराखंड से उनका खास रिश्ता है…..
सुप्रीम कोर्ट 15 अप्रैल को अरविंद केजरीवाल की याचिका पर करेगा सुनवाई
सुप्रीम कोर्ट 15 अप्रैल को अरविंद केजरीवाल की याचिका पर करेगा सुनवाई
चार धाम सहित पंचकेदार पंच बदरी के कपाट खुलने की तिथियां घोषित
चार धाम सहित पंचकेदार पंच बदरी के कपाट खुलने की तिथियां घोषित
सिरदर्द होने पर तुरंत पेनकिलर न खाएं, इस बीमारी का बढ़ जाता है खतरा
सिरदर्द होने पर तुरंत पेनकिलर न खाएं, इस बीमारी का बढ़ जाता है खतरा

नाटो की आपात बैठक आज ,ले सकता है बड़े फैसले

[ad_1]

रूस-यूक्रेन। महायुद्ध की स्थिति दिन प्रतिदिन भयावह होती जा रही है। जंग के बीच पश्चिमी व यूरोपीय देशों के अहम संगठन उत्तर अटलांटिक ट्रीटी आर्गनाइजेशन (NATO) की शुक्रवार को अहम बैठक होगी। अब तक नाटो ने यूक्रेन का सैन्य सहयोग नहीं किया है। ऐसे में इस बैठक पर सभी की नजर रहेगी कि वह यूक्रेन को लेकर क्या फैसला करता है।

अब तक नाटो के सदस्य देश जंग में सीधे सैन्य हस्तक्षेप से दूर रहे हैं। इसकी वजह शायद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन की जंग की शुरुआत में यह धमकी हो सकती है कि जो भी तीसरा देश या संगठन इस जंग के बीच में आएगा उसे इतिहास का सबसे बुरा अंजाम भोगना पड़ेगा। 

नाटो का कहना है कि यूक्रेन अब तक उसका सदस्य नहीं बना है, इसलिए वह सीधे सैन्य हस्तक्षेप नहीं करेगा। हालांकि वह यूक्रेन की परोक्ष मदद कर रहा है और उसने रक्षात्मक तैयारी तेज कर दी है। इसका मतलब है कि यदि रूस ने यूक्रेन के अलावा नाटो के किसी सदस्य देश पर हमला बोला तो विश्व के इस ताकतवर संगठन की फौज रूस का मुकाबला करने को मैदान में कूद सकती है।

नाटो का कहना है कि उसने कई आपात योजनाएं तैयारी की हैं। इनमें सदस्य देशों की सुरक्षा और जवाबी कार्रवाई की रूपरेखा शामिल है। नाटो ने अमेरिका के साथ मिलकर कई बड़ी जंग लड़ी है। यूक्रेन द्वारा उसकी सदस्यता लेने के प्रयासों से ही रूस खफा हुआ है और उसने उस पर हमला बोला है।   

सामरिक रणनीति के जानकारों के अनुसार नाटो तब तक इस जंग में नहीं कूदेगा, जब तक कि रूस उससे सीधे सैन्य टकराव मोल नहीं लेगा। हालात से निपटने की तैयारी अमेरिका के साथ ही नाटो ने भी की है। फिलहाल पश्चिमी देश चाहते हैं कि रूस पस्त हो जाए और आर्थिक व हवाई नाकेबंदी से उसका हौसला टूट जाए, लेकिन नौ दिन बाद भी रूस कमजोर नहीं हुआ है। उसकी फौजें लगातार हमले कर रही हैं। 



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top