Breaking News
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
मुख्यमंत्री धामी ने चम्पावत को आदर्श जनपद बनाने के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना और कार्यों की समीक्षा की
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
अब सैमसंग वॉलेट के जरिये कर सकेंगे फ्लाइट, बस, फिल्में और इवेंट की टिकट बुकिंग
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
मुख्य सचिव से सीआरपीएफ के प्रशिक्षु अधिकारियों ने की शिष्टाचार भेंट
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
महाराज ने आपदा प्रभावित ग्राम सुकई के परिवारों को राहत सामग्री की वितरित
चौंदकोट के लाल साकेत ने किया कमाल
चौंदकोट के लाल साकेत ने किया कमाल
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
कृषि मंत्री बनते ही एक्शन में शिवराज सिंह चौहान, इन प्रस्तावों को दी मंजूरी
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 49 लोगों की मौत, मृतकों में 40 भारतीय
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
मुख्य सचिव ने 383.11 करोड़ रूपये के प्रोजेक्ट तत्काल नाबार्ड को भेजने के दिए सख्त निर्देश 
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ
रोजाना खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से मिल सकते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

दून मेडिकल कालेज के 462 उपनल कर्मियों की नौकरी पर संकट

[ad_1]

31 मार्च को समाप्त हो जाएगी उपनल कर्मियों की सेवा मेडिकल कालेज के प्राचार्य ने उपनल को भेजा पत्र

देहरादून। कोरोनाकाल में दून मेडिकल कालेज में आउटसोर्स पर रखे गए 462 उपनल कर्मियों की नौकरी पर तलवार लटक गई है। मेडिकल कालेज प्रशासन 31 मार्च को इनकी सेवा समाप्त करने जा रहा है। प्राचार्य डा. आशुतोष सयाना ने उपनल को भी इस संबंध में पत्र भी भेज दिया है। दरअसल, कोरोना के मामले बढऩे पर मानव संसाधन की उपलब्धता के लिए सरकार ने राजकीय मेडिकल कालेजों में स्टाफ नर्स, फार्मेसिस्ट, लैब टेक्नीशियन, ओटी टेक्निीशियन, एक्सरे टेक्नीशियन, कंप्यूटर आपरेटर, वाहन चालक, वार्ड अटेंडेंट आदि को आउटसोर्स पर रखे जाने की व्यवस्था की थी। जिसके तहत कोरोना की पहली, दूसरी व तीसरी लहर में दून मेडिकल कालेज में भी उपनल के माध्यम से 462 उपनल कर्मियों की नियुक्ति की गई थी। जिन्हें अलग-अलग समय पर आवश्यकतानुसार सेवा विस्तार भी दिया गया। पर अब कोरोना संक्रमण का प्रसार कम होने पर इन्हें नौकरी से हटाया जा रहा है।

उपनल को भेजे पत्र में कहा गया है कि इन कर्मचारियों की सेवा 31 मार्च तक विस्तारित की गई थी, लेकिन सेवा विस्तारित ना करने का अभी तक कोई स्पष्ट आदेश अभी नहीं मिला है। ऐसे में इन्हें सेवा में रख पाना संभव नहीं है। जब भी अस्पताल को कर्मचारियों की जरूरत होगी, तो इन्हीं कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर नौकरी पर रखा जाएगा। कालेज प्रशासन के इस कदम में कर्मचारियों में हड़कंप है। उनका कहना है कि कोरोनाकाल में विकट परिस्थितियों में उन्होंने सरकार और प्रबंधन का साथ दिया है। इस दौरान उन्होंने जान जोखिम मेें डालकर काम किया। अब उन्हें एकदम से हटाया जा रहा है। जिससे उनके साथ-साथ उनके परिवार पर भी आर्थिक संकट आ जाएगा। इधर, प्राचार्य का कहना है कि शासन से इनकी सेवा विस्तार के कोई निर्देश नहीं मिले हैैं। कोरोना के मामले अब ना के बराबर हैं और अतिरिक्त कर्मचारियों की जरूरत भी नहीं है। जब जरूरत होगी तो उपनल को डिमांड भेज दी जाएगी। इन्हीं कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर रखा जाएगा।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top