Breaking News
कांग्रेस ने देश को घोटालों के अलावा कुछ नहीं दिया- महाराज
कांग्रेस ने देश को घोटालों के अलावा कुछ नहीं दिया- महाराज
आईपीएल 2024- क्वालीफायर-1 में आज कोलकाता नाइट राइडर्स से भिड़ेगी सनराइजर्स हैदराबाद
आईपीएल 2024- क्वालीफायर-1 में आज कोलकाता नाइट राइडर्स से भिड़ेगी सनराइजर्स हैदराबाद
यहां जानें ईरानी राष्ट्रपति की मौत के बाद अब ईरान में कब होंगे राष्ट्रपति चुनाव?
यहां जानें ईरानी राष्ट्रपति की मौत के बाद अब ईरान में कब होंगे राष्ट्रपति चुनाव?
कार्तिक आर्यन की फिल्म चंदू चैंपियन का दमदार ट्रेलर रिलीज, देशभक्ति से भरपूर होगी फिल्म
कार्तिक आर्यन की फिल्म चंदू चैंपियन का दमदार ट्रेलर रिलीज, देशभक्ति से भरपूर होगी फिल्म
 धरना-प्रदर्शन के बाद केदारनाथ में गर्भगृह से दर्शन हुए शुरू
 धरना-प्रदर्शन के बाद केदारनाथ में गर्भगृह से दर्शन हुए शुरू
ईडी ने अब आम आदमी पार्टी पर लगाया ये बड़ा आरोप, गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट
ईडी ने अब आम आदमी पार्टी पर लगाया ये बड़ा आरोप, गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट
सीएम धामी के गुड गवर्नेंस का दिखा कमाल, मंहगाई पर नियंत्रण पाने में दिख रहे सफल
सीएम धामी के गुड गवर्नेंस का दिखा कमाल, मंहगाई पर नियंत्रण पाने में दिख रहे सफल
ब्लैकबेरी बनाम ब्लूबेरी- इनमें से कौन- सी है ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक ?
ब्लैकबेरी बनाम ब्लूबेरी- इनमें से कौन- सी है ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक ?
Auto Draft
शाम पांच बजे के बाद यमुनोत्री पैदल मार्ग रहेगा प्रतिबंधित, उत्तरकाशी पुलिस ने जारी की एसओपी 

टैक्स फ्री भी नहीं आया काम, बॉक्‍स ऑफिस पर बुरी तरह धड़ाम हुई ‘सम्राट पृथ्‍वीराज

टैक्स फ्री भी नहीं आया काम, बॉक्‍स ऑफिस पर बुरी तरह धड़ाम हुई ‘सम्राट पृथ्‍वीराज

[ad_1]

चंद्रप्रकाश द्व‍िवेदी बोले हिंदू राजा पर फिल्‍म बनाई तो हंगामा हो गया

‘सम्राट पृथ्‍वीराज’ बॉक्‍स ऑफिस पर बुरी तरह फ्लॉप हुई है। 200 करोड़ रुपये के बजट में बनी यह फिल्‍म 12 दिनों में 63.50 करोड़ रुपये ही कमा पाई है। फिल्‍म की लाइफटाइम कमाई 75 करोड़ रुपये के आंकड़े को छू भी पाएगी या नहीं, इसको लेकर संशय है। बॉलिवुड के ‘ख‍िलाड़ी’ अक्षय कुमार की 10 महीने में यह तीसरी फिल्‍म है, जो टिकट ख‍िड़की पर धड़ाम हुई है।

‘सम्राट पृथ्वीराज’ की सोशल मीडिया पर आलोचना के बारे में बात करते हुए चंद्रप्रकाश द्विवेदी कहते हैं, ‘जब भी कभी किसी हिंदू वीर के बारे में बात की जाती है तो हंगामा हो जाता है। जब अकबर पर बात करते हैं तो उसके विरोध को गलत कहा जाता है। अबुल फजल जो कह दें वो सही, लेकिन चंदबरदाई जो कह दे तो वह गलत कैसे है? काव्य से एक कहानी मिलती है जिस पर फिल्म बनी है। इतिहास पर बहस करना इतिहासकारों का काम है। जो लोग राजनैतिक रोटियां सेकना चाहते हैं वे इसे विवादास्पद न बनाएं।’

चंद्रप्रकाश द्व‍िवेदी कहते हैं, ‘इतिहासकारों को अपनी बहस सिनेमाघर के बाहर करनी चाहिए। उनहें पहले फिल्‍म देखनी चाहिए। इसे धर्म और राजनीति से परे रखना चाहिए। यह फिल्‍म सिर्फ पृथ्‍वीराज के पराक्रम के बारे में नहीं है।’ फिल्‍म के रिव्‍यूज और रिएक्‍शन के बारे में बात करते हुए वह मानते हैं दर्शकों के मूड और उनकी परेशानी को समझने में वह नाकाम रहे हैं। वह कहते हैं, ‘हमने फिल्‍म को बड़े स्‍केल पर बनाया। लेकिन लोगों को प्रॉब्‍लम हुई। यह अभी तक समझ नहीं आ रहा है कि उन्‍हें क्‍या परेशानी है। लेखकों ने अपना काम पूरी ईमानदारी से किया। हमने इतिहास के तथ्‍यों से कोई छेड़छाड़ नहीं की। हम अपनी इस जिम्‍मेदारी को बखूबी समझते हैं।’



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top