Breaking News
कांग्रेस ने देश को घोटालों के अलावा कुछ नहीं दिया- महाराज
कांग्रेस ने देश को घोटालों के अलावा कुछ नहीं दिया- महाराज
आईपीएल 2024- क्वालीफायर-1 में आज कोलकाता नाइट राइडर्स से भिड़ेगी सनराइजर्स हैदराबाद
आईपीएल 2024- क्वालीफायर-1 में आज कोलकाता नाइट राइडर्स से भिड़ेगी सनराइजर्स हैदराबाद
यहां जानें ईरानी राष्ट्रपति की मौत के बाद अब ईरान में कब होंगे राष्ट्रपति चुनाव?
यहां जानें ईरानी राष्ट्रपति की मौत के बाद अब ईरान में कब होंगे राष्ट्रपति चुनाव?
कार्तिक आर्यन की फिल्म चंदू चैंपियन का दमदार ट्रेलर रिलीज, देशभक्ति से भरपूर होगी फिल्म
कार्तिक आर्यन की फिल्म चंदू चैंपियन का दमदार ट्रेलर रिलीज, देशभक्ति से भरपूर होगी फिल्म
 धरना-प्रदर्शन के बाद केदारनाथ में गर्भगृह से दर्शन हुए शुरू
 धरना-प्रदर्शन के बाद केदारनाथ में गर्भगृह से दर्शन हुए शुरू
ईडी ने अब आम आदमी पार्टी पर लगाया ये बड़ा आरोप, गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट
ईडी ने अब आम आदमी पार्टी पर लगाया ये बड़ा आरोप, गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट
सीएम धामी के गुड गवर्नेंस का दिखा कमाल, मंहगाई पर नियंत्रण पाने में दिख रहे सफल
सीएम धामी के गुड गवर्नेंस का दिखा कमाल, मंहगाई पर नियंत्रण पाने में दिख रहे सफल
ब्लैकबेरी बनाम ब्लूबेरी- इनमें से कौन- सी है ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक ?
ब्लैकबेरी बनाम ब्लूबेरी- इनमें से कौन- सी है ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक ?
Auto Draft
शाम पांच बजे के बाद यमुनोत्री पैदल मार्ग रहेगा प्रतिबंधित, उत्तरकाशी पुलिस ने जारी की एसओपी 

उत्‍तराखंड में बिना आराम बस दौड़ा रहे रोडवेज ड्राइवर दे रहे हादसे को न्‍यौता, जानिए क्या हैं नियम

उत्‍तराखंड में बिना आराम बस दौड़ा रहे रोडवेज ड्राइवर दे रहे हादसे को न्‍यौता, जानिए क्या हैं नियम

[ad_1]

देहरादून। चालक को बिना आराम दिए और निर्धारित किलोमीटर से अधिक बस संचालित कराने में निजी बस आपरेटर ही नहीं, बल्कि उत्तराखंड परिवहन निगम (रोडवेज) भी शामिल है। रोडवेज की बसों में 300 किमी से अधिक दूरी वाले मार्गों पर एक बस में दो चालक भेजने का नियम है, लेकिन यहां एक ही चालक से 500 से 600 किमी रोजाना बस चलवाई जा रही है। दरअसल, लंबी दूरी वाले मार्गों पर ज्यादातर बसों का संचालन विशेष श्रेणी व संविदा के चालक करते हैं, लिहाजा कमाई के चक्कर में ये चालक दोहरी ड्यूटी से इन्कार नहीं कर पाते।

इन चालकों को प्रति किमी के हिसाब से भुगतान होता है, इसलिए ज्यादा मानदेय के चक्कर में वह बिना आराम किए ही बस दौड़ाते हैं। कई बस चालक तो नींद में होने के बावजूद बसों का संचालन करते हैं। दो साल पूर्व ऐसे ही एक मामले में टनकपुर मार्ग के चालक की हरिद्वार में बस हादसे में मौत हो चुकी है। इस चालक से रोडवेज अधिकारियों ने बिना आराम दिए लगातार 1400 किमी बस संचालित कराई थी।

अब रविवार को उत्तरकाशी जिले में चारधाम यात्रा पर आए मध्य प्रदेश के श्रद्धालुओं की बस के दुर्घटनाग्रस्त होने का कारण भी चालक का नींद में होना बताया जा रहा है। हालांकि, यह बस निजी थी, मगर सवाल पूरी व्यवस्था पर खड़ा हो गया है। चारधाम यात्रा में रोडवेज बसें भी लगाई गई हैं, ऐसे में कर्मचारी संगठनों ने चालकों को आराम देने का मामला उठाना शुरू कर दिया है।

रोडवेज के विशेष श्रेणी और संविदा चालकों से एक माह में 10-10 हजार किमी तक बस संचालन कराया जा रहा है, जबकि नियम माह में ड्यूटी के 26 दिन में प्रतिदिन 300 किमी तक बस संचालन का ही है। रोडवेज के देहरादून ग्रामीण डिपो के रिकार्ड पर ही नजर डालें तो यहां तैनात तकरीबन 200 चालकों में से आधे चालकों ने मई में 10-10 हजार किमी बस संचालित की। मानक के तहत चालक को एक दिन में सिर्फ आठ घंटा स्टेयरिंग पर ड्यूटी कराई जा सकती है। फिर नौ घंटे आराम देने का नियम है, लेकिन चालकों से तय समय से अधिक ड्यूटी कराई जा रही है।

महाप्रबंधक रोडवेज दीपक जैन ने कहा कि नियमों के विपरीत बस संचालन किसी चालक से नहीं कराया जा रहा। आदेश दिए गए हैं कि एक चालक अगर आठ घंटे तक बस संचालन करता है तो उसे नौ घंटे तक आराम दिया जाए। अगर कोई चालक तय आठ घंटे से अधिक बस संचालन करता है तो उसे चार घंटे अतिरिक्त बस संचालन पर एक दिन का आराम दिया जाता है। मानक के अनुसार लंबी दूरी वाले मार्गों पर एक बस में दो चालक भेजे जा रहे हैं।

महामंत्री उत्तरांचल रोडवेज कर्मचारी यूनियन अशोक चौधरी प्रदेश ने कहा कि चालकों को बिना आराम दिए पूरा दिन बस संचालन कराया जा रहा है। विशेष श्रेणी व संविदा के चालक एक माह में 10-10 हजार किमी तक बस संचालन कर रहे हैं। इससे हादसे का खतरा बना रहता है। यह स्थिति तभी सुधर सकती है, जब चालकों को मिलने वाला मानदेय दोगुना किया जाए या उन्हें नियमित किया जाए।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top