Breaking News
भाजपा ने मोदी को फिर पीएम बनाने और विकसित भारत के अलाप को दी गति
भाजपा ने मोदी को फिर पीएम बनाने और विकसित भारत के अलाप को दी गति
आईपीएल 2024- लखनऊ सुपर जाएंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच मुकाबला आज 
आईपीएल 2024- लखनऊ सुपर जाएंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच मुकाबला आज 
यह है नरेंद्र मोदी का नया भारत, जहां महिलाओं को मिलता है उनका हक और सम्मान- कंगना रनौत 
यह है नरेंद्र मोदी का नया भारत, जहां महिलाओं को मिलता है उनका हक और सम्मान- कंगना रनौत 
जूनियर एनटीआर की ‘देवरा’ की रिलीज तारीख टली, अब 10 अक्टबूर को सिनेमाघरों में दस्तक देगी फिल्म
जूनियर एनटीआर की ‘देवरा’ की रिलीज तारीख टली, अब 10 अक्टबूर को सिनेमाघरों में दस्तक देगी फिल्म
उत्तराखंड आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे राहुल गांधी- बीजेपी 
उत्तराखंड आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे राहुल गांधी- बीजेपी 
आखिर क्यों क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने अपने बचपन के दोस्त के खिलाफ दर्ज करवायी रिपोर्ट
आखिर क्यों क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने अपने बचपन के दोस्त के खिलाफ दर्ज करवायी रिपोर्ट
कोलकाता में बोली ममता बनर्जी – बंगाल में एनआरसी और सीएए नहीं होने दूंगी लागू 
कोलकाता में बोली ममता बनर्जी – बंगाल में एनआरसी और सीएए नहीं होने दूंगी लागू 
मौसमी बुखार से सुरक्षित रहने के लिए अपनाएं ये असरदार टिप्स
मौसमी बुखार से सुरक्षित रहने के लिए अपनाएं ये असरदार टिप्स
पीएम मोदी के अब यह दो दिग्गज उत्तराखंड में गरमाएंगे प्रचार का माहौल 
पीएम मोदी के अब यह दो दिग्गज उत्तराखंड में गरमाएंगे प्रचार का माहौल 

उत्तराखंड : मुख्य सचिव के आदेश को भी नहीं मानते जल संस्थान के आला-अधिकारी, तबादलों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया कर्मियों का चिन्हीकरण..?

उत्तराखंड : मुख्य सचिव के आदेश को भी नहीं मानते जल संस्थान के आला-अधिकारी, तबादलों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया कर्मियों का चिन्हीकरण..?

[ad_1]

एक ही डिवीजन में एई भी बने, एक्शन भी बने और अब अधीक्षण अभियंता पद पर हो गया प्रमोशन

देहरादून। उत्तराखंड की धामी सरकार सरकारी सिस्टम को ढर्रे पर लाने के लिए तमाम कोशिशें कर रही हैं। सुबह ऑफिस टॉइम से लेकर फाइलों की मूवमेंट को लेकर कड़े निर्देश जारी किए गये हैं। ट्रांसफर पॉलिसी को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए आला-अधिकारियों को कर्मियों का प्राथमिकता के आधार पर चिन्हीकरण के आदेश दिये गये थे। मुख्य सचिव ने सभी विभागाध्यक्षों को निर्देश जारी किए थे कि 30 अप्रैल तक सभी विभागाध्यक्ष स्थानांतरण को लेकर कर्मियों के चिन्हीकरण का काम करेंगे। उसके बाद 1 मई तक सभी विभागों की तरफ से विभाग, मंडल और जनपद स्तर पर स्थानांतरण समितियों का गठन किया जाएगा। इसके बाद 15 मई तक सभी संवर्ग के लिए सुगम व दुर्गम क्षेत्र के लिए पात्र कर्मियों व रिक्तियों की सूची प्रकाशित की जाएगी। इस तरह 10 जुलाई तक स्थानांतरण के आदेश को लेकर अंतिम तारीख तय की गई है।

जल संस्थान में जिसकी लाठी उसकी भैंस
मुख्य सचिव के इस आदेश के बाद तमाम विभाग तो हरकत में आये लेकिन उत्तराखंड जल संस्थान के कानों में जूं नहीं रेंगी। मुख्य सचिव के आदेश को लगभग दो महीने पूरे होने वाले हैं लेकिन जल संस्थान के आला अधिकारियों का सुस्त रवैया बरकरार है। नाम न छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि देहरादून में कई अधिकारी व कर्मचारी अपने रसूख व नेताओं से पहुंच के चलते सालों से जमे हुए हैं। कुछ तो ऐसे हें कि जिनकी देहरादून में ही ज्वाइनिंग हुई और दो बार प्रमोशन होने के बाद भी उसी डिवीजन में तैनाती की गई है। यही नहीं बहुत से अधिकारी-कर्मचारी ऐसे भी हैं जो कभी दुर्गम क्षेत्रों से सुगम में आये ही नहीं। यानि उत्तराखंड जल संस्थान पर जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली कहावत फिट बैठती है। पड़ताल करने पर हमने पाया कि जल संस्थान के अधिकारी-कर्मचारी सेटिंग गेटिंग में भी माहिर है। जैसे ही इन्हें तबादलों का पता चलता है ये अपनी उपरी पहुंच का इस्तेमाल कर इसे रूकवा देते हैं।

आपको बता दें उत्तराखंड में कोरोना की दस्तक के साथ ही सरकार की तरफ से स्थानांतरण सत्र को शून्य कर दिया गया था. लेकिन अब संक्रमण के कम होने के बाद वार्षिक स्थानांतरण सत्र 2022-23 के लिए तबादलों को लेकर समय सारणी जारी कर दी गई है। प्रदेश में कोरोना के चलते पिछले करीब 2 सालों से वार्षिक स्थानांतरण की प्रक्रिया को पूरा नहीं किया जा पा रहा था. सरकार की तरफ से आपदा की स्थिति के कारण वार्षिक स्थानांतरण को शून्य करने का निर्णय लिया गया था. यानी लोक सेवकों के स्थानांतरण वार्षिक रूप से होने की प्रक्रिया पर रोक लगाई गई थी. लेकिन अब कोरोना मामले कम होने के बाद वार्षिक स्थानांतरण सत्र 2022-23 के लिए सरकार की तरफ से एक बार फिर समय सारणी जारी कर दी गई है।

इसके तहत 30 अप्रैल तक सभी विभागाध्यक्ष स्थानांतरण को लेकर कर्मियों के चिन्हीकरण का काम करेंगे. उसके बाद 1 मई तक सभी विभागों की तरफ से विभाग, मंडल और जनपद स्तर पर स्थानांतरण समितियों का गठन किया जाएगा. इसके बाद 15 मई तक सभी संवर्ग के लिए सुगम व दुर्गम क्षेत्र के लिए पात्र कर्मियों व रिक्तियों की सूची प्रकाशित की जाएगी. इस तरह 10 जुलाई तक स्थानांतरण के आदेश को लेकर अंतिम तारीख तय की गई है।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top